भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने आखिरकार आगामी टी 20 विश्व कप के लिए देश की टीम का खुलासा कर दिया है और कई उल्लेखनीय नाम छूट गए हैं, जिनमें लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल और शिखर धवन शामिल हैं।

चहल और धवन ट्रैवलिंग रिजर्व का हिस्सा भी नहीं हैं, क्योंकि अनुभवी प्रचारकों ने राहुल चाहर और ईशान किशन जैसी युवा प्रतिभाओं के पक्ष में कदम रखा है। यह निर्णय सदमे से मिला था क्योंकि भारत को मार्की टूर्नामेंट के लिए अपने टीम चयन के साथ जोखिम मुक्त रहने की उम्मीद थी।

यहां तीन कारण बताए गए हैं कि शिखर धवन को टी20 विश्व कप के लिए भारत की टीम में क्यों चुना जाना चाहिए था।

3 शिखर धवन हाल के दिनों में शानदार फॉर्म में रहे हैं

When the 2021 Indian Premier League (IPL) came to a stop earlier this year, Shikhar Dhawan finished at the top of the Orange Cap list. Amassing 380 runs in eight games at an average of 54.28 and a strike rate of 134.27, the southpaw got the Delhi Capitals off to excellent starts on a consistent basis.

2 आईसीसी टूर्नामेंट में शिखर धवन का रिकॉर्ड शानदार

2013 चैंपियंस ट्रॉफी से, जहां वह खिताब के लिए भारत की दौड़ में अग्रणी रन-गेटर के रूप में समाप्त हुआ, शिखर धवन आईसीसी टूर्नामेंटों में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

1 शिखर धवन ने एक बैकअप ओपनर के रूप में अनुभव और नेतृत्व दिया होगा

भारत ने टी20 वर्ल्ड कप के लिए अपनी टीम में युवाओं को चुना है।

इशान किशन, जो कुछ आकर्षक पारियों के बावजूद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अभी भी ग्रीनहॉर्न हैं, को संभवतः बैकअप ओपनर के रूप में चुना गया है। किशन ने अपने छोटे से अंतरराष्ट्रीय करियर में मेन इन ब्लू के लिए शीर्ष क्रम में खेला है, लेकिन वह आईसीसी टूर्नामेंट के दबाव को कैसे संभालता है यह देखना बाकी है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.